Maurya Empire GK Questions in Hindi-1

History of India in Hindi में आज gkforyou.com अपने पाठकों के लिए ancient history of india, से Maurya Empire, Maurya empire Gk Questions, maurya empire history, maurya empire in hindi, से 51 Most Important GK Questions in hindi, gk questions and answer को संकलित कर आपके समक्ष भाग-1 प्रस्‍तुत कर रहा है :

maurya-empire

GK Questions on Maurya Empire in Hindi 


1. मौर्य साम्राज्‍य का संस्‍थापक कौन था :

उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य
·चंद्रगुप्‍त मौर्य ने अपने गुरू विष्‍णुगुप्‍त की सहायता से नंद वंश के अंतिम शासक धनानंद को हराकर मौर्य साम्राज्‍य की स्‍थापक की थी ।
·चंद्रगुप्‍त मौर्य का जन्‍म 345 ई.पू. में हुआ था  


2. चंद्रगुप्‍त मौर्य मगध की राजगद्दी पर कब बैठा था :

उत्‍तर- 322 ई. पू;
·चंद्रगुप्‍त मौर्य मगध की राजगद्दी पर 322 ई. पू. में बैठा था ।


3. यूनानी शासक सेल्‍युकस और चंद्रगुप्‍त के मध्‍य युद्ध कब हुआ था :
उत्‍तर- 305 ई. पू.
·305 ई. पू. में यूनानी शासक सेल्‍युकस एवं चंद्रगुप्‍त के मध्‍य युद्ध हुआ था, जिसमें सेल्‍युकस की हार हुई थी ।
·युद्ध के संधि के अनुसार सेल्‍युकस निकेटर ने अपनी पुत्री हेलेना का विभाग चंद्रगुप्‍त मौर्य के साथ कर दी थी और चार प्रांत काबुल, कंधार, हेरात एवं मकरान चंद्रगुप्‍त को दिए थे । प्‍लूटार्क के अनुसार चंद्रगुप्‍त मौर्य ने सेलयुकस को उपहार स्‍वरूप 500 हाथी दिए थे ।
·चंद्रगुप्‍त मौर्य और सेल्‍यूकस के बीच हुए युद्ध का वर्णन एप्पियानस ने किया है । 


4. नंदवंश केविनाश करने में चंद्रगुप्‍त मौर्य ने किस राजा से सहायता प्राप्‍त की थी :
उत्‍तर- कश्‍मीर के राजा पर्वतक से
· नंदवंश के विनाश करने में चंद्रगुप्‍त मौर्य नेकश्‍मीर के राजा पर्वतक से सहायता प्राप्‍त की थी ।


5. प्रसिद्ध युनानी राजदूत मेगास्‍थनीज भारत किसके शासनकाल में आया था :

उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य
· मेगास्‍थनीज को चंद्रगुप्‍त मौर्य के दरबार में सेल्‍युकस निकेटर ने भेजा था ।


6. मेगास्‍थनीज ने भारतीय समाज को कितने श्रेणियों में विभाजित किया था :
उत्‍तर- सात
·मेगास्‍थनीज ने भारतीय समाज को सात वर्गो में विभाजित किया है, दार्शनिक, किसान,अहीर, कारीगर, सैनिक, निरीक्षक और सभासद 




7. मेगास्‍थनीज द्वारा लिखी गई पुस्‍तक का नाम क्‍या है :

उत्‍तर– इंडिका


8. किस ग्रंथ में चंद्रगुप्‍त मौर्य के लिए वृषल (निम्‍न कुल) शब्‍द का प्रयोग किया गया है :
उत्‍तर- मुद्राराक्षस में
· ब्रहमण साहित्‍य इन्‍हें शूद्र तथा बौद्ध एवं जैन ग्रंथ इन्‍हें क्षत्रिय कुल में उत्‍पन्‍न बताते हैं । तथा विशाखादत्‍त कृत मुद्राराक्षस में इनके लिए वृषल शब्‍द का प्रयोग किया गया है । वृषल शब्‍द का आशय निम्‍न कुल से है ।


9. पाटलीपुत्र को किस शासक ने सर्वप्रथम अपनी राजधानी बनायी थी :
उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य ने
· चंद्रगुप्‍त ने अपने विशाल साम्राज्‍य पर राजधानी पाटलीपुत्र शासन किया था जिसे यूनानी और लैटिन लेखकों ने पालिबोथ्रा,पालिबोत्रा आदि नामों से उल्लिखित किया है ।


10. पाटलीपुत्र में स्थित चंद्रगुप्‍त मौर्य का महल मुख्‍यत: किसका बना था :
उत्‍तर-लकड़ी
· मेगास्‍थनीज ने पाटलीपुत्र के बारे में लिखा है कि पाटलिपुत्र एक विशाल प्राचीर से घिरा है, जिसमें 570 बुर्ज और 64 द्वारा है । दो और तीन मंजिल वाले घर लकड़ी और कच्‍ची ईट्टों से बने हैं । राजा का महल काठ से बना है जिसे पत्‍थर की नक्‍काशी से अलंकृत किया गया है ।


11. विशाल साम्राज्‍य पर शासन करने वाला भारत का पहला शासक कौन था :
उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य
· चंद्रगुप्‍त मौर्य का साम्राज्‍य उत्‍तर-पश्चिम में ईरान की सीमा से लेकर दक्षिण में वर्तमान उत्‍तरी कर्नाटक एवं पूर्व में मगध से लेकर पश्चिम में सोपारा तथा सुराष्‍ट्र तक फैली हुई थी । महावंश की टीका में उसे सकल जम्‍बूद्वीप का शासक कहा गया है ।


12. मालवा,गुजरातएवं महाराष्‍ट्र को किस शासक ने पहली बार जीता :
उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य


13. किस मौर्य राजा ने दक्‍कन की विजय प्राप्‍त की थी :
उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य ने 


14. किस अभिलेख से यह पता चलता है कि चंद्रगुप्‍त का प्रभाव पश्चिम भारत तक फैला हुआ था :
उत्‍तर- रूद्रदमन का जुनागढ़ अभिलेख




15. चंद्रगुप्‍त मौर्य अपनी जीवन के अंतिम क्षण कहां बिताया था :

उत्‍तर-श्रवणवेलगोला नामक स्‍थान पर
· चंद्रगुप्‍त मौर्य ने अपना अंतिम समय कर्नाटक के श्रवणवेला नामक स्‍थान पर गुजारा था ।


16. चंद्रगुप्‍त मौर्य ने किस जैन गुरू से जैन धर्म की दीक्षा ली थी :
उत्‍तर- भद्रबाहु
· चंद्रगुप्‍त मौर्य ने जैन गुरू भद्रबाहु से जैन धर्म की दीक्षा ली थी । उसके पश्‍चात श्रवणवेलगोला (मैसूर, कर्नाटक) में स्थित चंद्रगिरि पहाड़ी पर करीब 298 ई.पू. उपवास के दौरान शरीर त्‍याग दिया था ।


17. किस जैन ग्रंथ में चंद्रगुप्‍त मौर्य के जैन धर्म अपनाने का उल्‍लेख मिलता है:
उत्‍तर- परिशिष्‍टपर्वन में
·जैनधर्मों में भद्रबाहु के कल्‍पसूत्र एवं हेमचंद्र के परिशिष्‍टपर्वन से चंद्रगुप्‍त मौर्य के जीवन की कुछ घटनाओं का उल्‍लेख मिलता है ।


18. चंद्रगुप्‍त मौर्य का उत्‍तराधिकारी कौन बना :
उत्‍तर- बिंदुसार
· चंद्रगुप्‍त मौर्य का पुत्र बिंदुसार मौर्य साम्राजय का अगला उत्‍तराधिकारी बना था ।
· बिंदुसार 298 ई.पू. में मगध की राजसिंहासन पर बैठा था ।


19. अमित्रघात के नाम से कौन मौर्य शासक जाना जाता है :
उत्‍तर-बिंदुसार
· प्‍लीट ने बिंदुसार को अमित्रघात बताया था जिसका अर्थ शत्रुओं का वध करने वाला होता है ।


20. बिंदुसार के माता का नाम क्‍या था :
उत्‍तर- दुर्द्धरा
· जैन परंपरा के अनुसार बिंदुसार की माता का नाम दुर्द्धरा मिलता है ।


21. बिंदुसार को जैनग्रंथों में किस नाम से पुकारा गया है :
उत्‍तर- सिहंसेन
· वायुपुराण में बिंदुसार को भद्रसार तथा जैन ग्रंथों में सिंहसेन कहा गया है जबकि स्‍ट्रैबों ने इन्‍हें अलिट्रोकेड्स एवं यूनानी लेखक अमित्रोचेड्स कहते थे ।


22. यूनानी राजदूत डाइमेकस भारत किसके दरबार में आया था :
उत्‍तर- बिंदुसार
· राजदूत डाइमेकस को बिंदुसार के दरबार में यूनानी शासक एण्टियोकस ने भेजा था । डाइमेकस को मेगास्‍थनीज का उत्‍तराधिकारी भी माना जाता है ।


23. किस मौर्य सम्राट ने एक विदेशी राजा सीरिया के एण्टियोकस । से अंजीर, शराब और एक दार्शनिक को भारत भेजने का आग्रह किया था :
उत्‍तर- बिंदुसार
· एथीनिअस नाम के एक यूनानी लेख के उल्‍लेख से यह स्‍पष्‍ट होता है कि बिंदुसार ने विदेशी राजा सीरिया के एण्टियोकस । से अंजीर, शराब और एक दार्शनिक को भारत भेजने का आग्रह किया था जिसमें से दो स्‍वीकार कर ली थी किंतु दार्शनिक भेजने से इनकार कर दिया था ।


24. बिंदुसार किस सम्‍प्रदाय का अनुयायी था :
उत्‍तर- आजीवक संप्रदाय
· बिंदुसार आजीवक संप्रदायका अनुयायी था । उसकी राजसभा में आजीवक परिब्राजक निवास करता था ।


25. किस मौर्य शासक के दरबार में 500 सदस्‍यों वाली एक मंत्री परिषद थी :
उत्‍तर- बिंदुसार
· बिंदुसार की सभा में 500 सदस्‍यों वाली एक मंत्री परिषद थी जिसका प्रधान खल्‍लाटक था ।



26. किस बौद्ध विद्वान ने बिंदुसार को 16 राज्‍यों का विजेता बताया है:
उत्‍तर- तारानाथ ने
· बौद्ध विद्वाना तारानाथ ने बिंदुसार को 16 राज्‍यों का विजेता बताया है ।


27. तक्षशीला में हुए विद्रोह को दबाने के लिए बिंदुसर ने अपने किस बेटे को भेजा था :
उत्‍तर- अशोक को
· बिंदुसार के शासनकाल में तक्षशीला में दो विद्रोह का उल्‍लेख है ।इस विद्रोह को दबाने के लिए बिंदुसार ने पहले सुशीम और बाद में अशोक को भेजा था ।


28. अशोक मगध की राजगद्दी पर कब बैठा था :
उत्‍तर- 269 ई.पू.
· बिंदूसार की मृत्‍यु के उपरांत अशोक मौर्य साम्राज्‍य की राजगद्दी पर बैठा अशोक के जीवन की प्रारंभिक जानकारी हमें बौद्ध ग्रंथों दिव्‍यावदान तथा सिंहली ग्रंथों से मिलता है ।


29. अशोक की माता का नाम क्‍या था :
उत्‍तर- सुभद्रांगी
· बौद्ध ग्रंथ दिव्‍यावदान के अनुसार अशोक की माता का नाम सुभद्रांगी मिलता है ।

30. मगध की राजगद्दी पर बैठते समय अशोक कहां का शासक था :
उत्‍तर- अवन्ति का

31. सम्राट अशोक की वह पत्‍नी कौन थी जिसने उसको प्रभावित किया था :
उत्‍तर- कारूवाकी

32. अशोक का उत्‍तराधिकारी कौन था :
उत्‍तर- कुणाल

33. बराबर (गया जिला) की गुफाओं का उपयोग किसने आश्रयगृह के रूप में किया :
उत्‍तर- आजीविकों ने
· बराबर पहाडि़यों में अशोक ने आजीवक सम्‍प्रदाय के लोगों के रहने हेतु चार गुफाओं का निर्माण करवाया, जिनका नाम कर्ण,चोपर, सुदामा व विश्‍व झोपड़ी है ।


34. अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए श्रीलंका किसे भेजा था :
उत्‍तर- महेंद्र एवं संघमित्रा को
· अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए श्रीलंका अपने पुत्र महेंद्र एवं पुत्री संघमित्रा को भेजा था ।


35. किस मौर्य सम्राट का नाम देवान पियादशी भी था :
उत्‍तर- अशोक
· अभिलेखों में अशोक को देवानांमपिय देवानापियदशि एवं राजा के संबोधन से संबोधित किया गया है ।


36. अशोक का समकालीन तुरमय कहां का शासक था :
उत्‍तर- मिस्र


37. कौटिल्‍य/चाणकय किसका प्रधानमंत्री था :
उत्‍तर- चंद्रगुप्‍त मौर्य का


38. चाणक्‍य का अन्‍य नाम क्‍या था :
उत्‍तर- विष्‍णुगुप्‍त
· चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे । चाणक्‍य का अन्‍य नाम विष्‍णुगप्‍त व 'कौटिल्य' के नाम से जाना जाता हैं । चाणक्‍य तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य थे ।


39. किसकी तुलना मैकियावेली के प्रिंस से की जाती है :
उत्‍तर- कौटिल्‍य के अर्शशास्‍त्र


40. किस अभिलेख में अशोक का नाम अशोक मिलता है :
उत्‍तर- मास्‍की एवं गुर्जरा अभिलेख
· सर्वप्रथम मास्‍की अभिलेख में अशोक का नाम अशोक मिलता है । गुर्जरा अभिलेख में भी इसका नाम अशोक मिलता है ।


41. अशोक ने कलिंग पर आक्रमण कब किया था :
उत्‍तर- 261 ई. पूर्व
· अशोक ने अपने अभिषेक के 8वें वर्ष लगभग 261 ई. पूर्व. में कलिंग पर आक्रमण किया था तथा कलिंग की राजधानी तोषाली पर अधिकार कर लिया था ।


42.कलिंग विजय के बाद सम्राट अशोक ने किस धर्म को अंगीकार कर लिया था :
उत्‍तर- बौद्ध धर्म को


43. अशोक के कलिंग आक्रमण के समय वहां का शासक कौन था :
उत्‍तर- नंदराज का
·हाथीगुम्‍फा अभिलेख से प्रकट होता हे कि अशोक के आक्रमण के समय कलिंग पर नंदराज का शासन था ।


44. कलिंग युद्ध का वर्णन व अशोक के हृदय परिवर्तन किस अभिलेख में मिलता है :
उत्‍तर- तेरहवे अभिलेख में
· तेरहवे अभिलेख में कलिंग युद्ध का वर्णन एवं अशोक के हृदय परिवर्तन की बात कहीं गई है । इसी अभिलेख में पड़ोसी राजाओं का उल्‍लेख मिलता है ।


45. अशोक को बौद्ध धर्म की दीक्षा किसने दी थी :
उत्‍तर- उपगुप्‍त
· हेनसांग के अनुसार अशोक को उपगुप्‍त बोद्ध भिक्षु ने बौद्ध धर्म की दीक्षा दी थी । आधुनिक भारत इतिहास (भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन)  से 51 महत्‍वपूर्ण सामान्‍य ज्ञान प्रश्‍नोत्‍तरी भाग-1


46. भारत में शिलालेख का प्रचलन सर्वप्रथम किसने किया था :
उत्‍तर- अशोक ने
·अशोक के इतिहास की संपूर्ण जानकारी हमें उसके अभिलेखों से मिलती है ।अभिलेखों के द्वारा प्रजा को संदेश देने की प्रेरणा अशोक को संभवत: ईरानी शासक डेरिय (दारा प्रथम) से मिली थी ।


47. अशोक के किस एक मात्र अभिलेख का विषय आर्थिक था :
उत्‍तर- रूमेंदेई का अभिलेख
·अशोक के सभी अभिलेख का विषय प्रशासनिक था, जबकि रूमेंदेई अभिलेख का विषय आर्थिक था । रूमेन्‍देई अभिलेख से मौर्यकालीन अर्थव्‍यवस्‍था (घर नीति) की जानकारी मिलती है ।


48. तृतीय बौद्ध संगीती का आयोजन किस मौर्य शासक के समय हुआ था :
उत्‍तर- अशोक के समय
· तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन अशोक के शासनकाल में ही पाटलिपुत्र में हुआ था । तृतीय बौद्ध संगीती की अध्यक्षता मोगाली पुत्र तिष्या ने किया था ।


49. मौर्यकाल में सीता से तात्‍पर्य है :
उत्‍तर- राजकीय भूमि से प्राप्‍त आय


50. कौटिल्‍य द्वारा रचित अर्थशास्‍त्र में कितने अधिकरणों में विभाजित है :
उत्‍तर- 15


51.अर्थशास्‍त्र में उल्लिखित सप्‍तांग में शामिल थे :
उत्‍तर- राजा, क्षेत्र, प्रशासन एवं कोष


यदि Maurya Empire Gk Questions with answer की यह सीरिज पसंद आया हो तो like करें तथा अपने दोस्‍तों के बीच share करें तथा Website से जुड़े रहने के लिए हमारे सोशल मीडियाा Twitter, Facebook, You tube को Follow करें ।

0 टिप्पणियाँ: