मगध साम्राज्‍य: हर्यक वंश, शिशुनाग वंश, GK Questions

History of India in Hindi में आज gkforyou.com अपने पाठकों के लिए मगध साम्राज्‍य, हर्यक वंश gk, Magadh Epic, Magadh Samrajy, Magadh Shasak से 35 Most Important GK Questions in hindi, gk questions with answer, gk in hindi, gk in hindi 2019 को संकलित कर आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा है । इस सीरिज में मगध पर शासन करने वाले महत्‍वपूर्ण वंश हर्यक वंश, हर्यक वंश gk, हर्यक वंश gk hindi, नंद वंश, शिशुनाग वंश व उसके शासको, बिंबिसार, अजातशत्रु, उदायिन, शिशुनाग, धनानंद से संबंधित उन सभी सामान्‍य ज्ञान प्रश्‍नोंत्‍तरी को एकत्रित किया गया है जो प्रतियोगिता परीक्षाओं में बार-बार पूछे जाते हैं जो कि आपके आगामी प्रतियोगिता परीक्षाओं में अवश्‍य सहायक होगा :
magadh-samrajya-haryak-vansh-gk


1. मगध का उल्‍लेख सर्वप्रथम किस वेद में मिलता है :
उत्‍तर- अथर्व वेद


2. मगध के सबसे प्राचीन वंश के संस्‍थापक कौन था :

उत्‍तर- बृहद्रथ
• मगध साम्राज्य के संस्थापक “जरासंध” और “बृहद्रथ” थे लेकिन इसका विकास हर्यक वंश के समय में शुरू हुआ तथा इसका विस्तार शिशुनाग एवं नंद वंश के समय हुआ था| अंततः मौर्यवंश के शासनकाल में मगध साम्राज्य अपने सर्वोच्च मुकाम पर पहुँच गया था|
बृहद्रथ का नाम वैदिक एवं पुराणों में कई व्‍यक्तियों का उल्‍लेख मिलता है:
बृहद्रथ जरासंध का पिता एवं मगध का राजा थे ।
• महाभारत में बृहद्रथ कौरव सेना का योद्धा थे ।
मौर्य वंश का अंतिम राजा बृहद्रथ थे, जो शतधवन के पुत्र थे ।


3. मगध की राजधानी कहां थी :
उत्‍तर- गिरिब्रज


4. मगध पर निम्‍न में से किस वंश ने सबसे पहले शासन किया था :
a. नंद वंश
b. हर्यक वंश
c. शिशुनाग वंश
d. मौर्य वंश


उत्‍तर- हर्यक वंश


5. हर्यक वंश का संस्‍थापक कौन था :
उत्‍तर- बिंबिसार
• हयर्क वंश का संस्‍थापक बिंबिसार था ।बिंबिसार का उपनाम श्रेणिक था ।


6. बिंबिसार मगध की गद्दी पर कब बैठा था :
उत्‍तर- 545 ई. पू.
• बिम्बिसार 545 ई. पू. से 493 ई. पू. तक 52 वर्षों तक मगध पर शासन किया था ।


7. बिंबिसार किस धर्म का अनुयायी था :
उत्‍तर- बौद्ध धर्म


8. अंग राज्‍य को मगध में किसने मिलाया था :
उत्‍तर- बिबिसार
• बिम्बिसार ने ब्रह्मादत्त को हराकर अंग राज्‍य को मगध में मिला लिया था ।


9. बिंबिसार की राजधानी कहां थी :
उत्‍तर- राजगृह
• बिम्बिसार ने राजगृह नवीन नगर की स्‍थापना करायी एवं उसे अपनी राजधानी बनाया था ।


10. बिंबिसार ने महाबुद्ध की सेवा में किस राजवैद्य को भेजा था :
उत्‍तर- जीवक को
• बिम्बिसार ने महात्‍मा बुद्ध की सेवा में राजवैद्य जीवक को भेजा था । अवन्ति के राजा प्रद्योत जब पाण्‍डु रोग से ग्रसित थे उस समय भी बिम्बिसार ने जीवक को उनकी सेवा सुश्रुषा के लिए भेजा था ।


11. भारत का पहला शासक कौन था, जिसने अपने आपको शक्तिशाली बनाने के लिए वैवाहिक गठबंधन की शुरूआत की थी :
उत्‍तर- बिंबिसार


12. बिंबिसार की हत्‍या किसने की थी :
उत्‍तर- अजातशत्रु
• अजातशत्रु ने अपने पिता बिंबिसार की हत्‍या कर 493 ई. पू. में मगध की गद्दी पर बैठा था ।


13. बिंबिसार ने अंग राज्‍य के किस बंदरगाह को जीता था :
उत्‍तर- चम्‍पा बंदरगाह


14. भारत का पहला शासक कौन था, जिसने स्‍थायी सेना रखने की व्‍यवस्‍था की थी :
उत्‍तर- बिबिंसार


15. निम्न में से किसका उपनाम कुणिक था :
उत्‍तर- अजातशत्रु



16. अजातशत्रु प्रारंभ में किस धर्म का अनुयायी था : 
उत्‍तर- जैन धर्म


17. महात्‍मा बुद्ध को महापरिनिर्वाण के समय मगध का शासक कौन था :
उत्‍तर- अजातशत्रु
• आजातशत्रु के शासनकाल में ही महात्‍मा बुद्ध की 80 वर्ष की अवस्‍था में 483 ई. पू. में मृत्‍यु हो गई थी, जिसे बौद्ध धर्म में महापरिनिर्वाण कहा गया है ।


18. महात्‍मा बुद्ध एवं महावीर के समय मगध के समकालीन शासक कौन था :
उत्‍तर- अजातशत्रु
• महावीर और गौतम बुद्ध दोनों का समकालीन मगध शासक अजातशत्रु था ।


19. प्रथम बौद्ध संगीती के समय मगध का शासक कौन था :
उत्‍तर- अजातशत्रु
• महात्‍मा बुद्ध के शासनकाल में ही 483 ई. पू. में राजगृह के सप्‍तपर्णि गुफा में महाकश्‍यप के अध्‍यक्षता में प्रथम बौद्ध संगीती का आयोजन हुआ था ।


20. अजातशत्रु ने मगध पर कितने वर्ष तक शासन किया था :
उत्‍तर- 32 वर्ष तक
• अजातशत्रु ने पुराणों के अनुसार 28 वर्ष एवं बौद्ध साक्ष्‍य के अनुसार 32 वर्ष (492 ई.पू. से 461 ई.पू.) तक शासन किया था ।


21. वर्षकार निम्‍न में से किसका सुयोग्‍य मंत्री था :
उत्‍तर- अजातशत्रु
• वर्षकार अजातशत्रु के सुयोग्‍य मंत्री था, जिसकी सहायता से अजातशत्रु ने वैशाली पर विजय प्राप्‍त की थी ।


22. अजातशत्रु की हत्‍या कर किसने मगध की गद्दी पर बैठा था :
उत्‍तर- उदायिन
• अजातशत्रु की हत्‍या 461 ई. पू. में उसके पुत्र उदायिन ने करके मगध की गद्दी पर बैठा था ।


23. उदायिन किस धर्म का अनुयायी था :
उत्‍तर- जैन धर्म


24. पाटलिग्राम की स्‍थापना किसने की थी :
उत्‍तर- उदायिन ने
• उदायिन ने गंगा एवं सोन नदी के संगम पर पाटलिपुत्र नामक नगर की स्‍थापना की थी और इसे अपना राजधानी बनायी थी ।


25. हर्यक वंश का अंतिम राजा कौन था :
उत्‍तर- नागदशक
• हर्यक वंश का अंतिम शासक उदायिन का पुत्र नागदशक था । उदायिन के बाद अनुरूद्ध, मुंड और नागदशक ने लगभग 412 ई. पू. तक शासन किया था । इन तीनों को पितृहंता कहा गया है ।


26. शिशुनाग वंश की स्‍थापना किसने की थी :
उत्‍तर-शिशुनाग ने
• हर्यक वंश के अंतिम शासक नागदशक को उसके एक अमात्‍य शिशुनाग ने 412 ई. पू. में अपदस्‍थ करके मगध पर शिशुनाथ वंश की स्‍थापना की थी ।


27. शिशुनाग ने मगध की राजधानी कहां बनायी थी :
उत्‍तर- वैशाली
• शिशुनाग ने अपनी राजधानी पाटलिपुत्र से हटाकर वैशाली में स्‍थापित की थी ।


28. शिशुनाग का उत्‍तराधिकारी कौन बना :
उत्‍तर- कालाशोक


29. मगध की राजधानी वैशाली से हटाकर पुन: पाटलिपुत्र किसने बनाया था :
उत्‍तर- कालाशोक ने
• कालशोक फिर से अपनी राजधानी को पाटलिपुत्र बनाया था ।
30. द्वितीय बौद्ध संगीती किसके शासनकाल में हुआ था :
उत्‍तर- कालाशोक के समय
• कालाशोक के समय 383 ई.पू. में वैशाली में द्वितीय बौद्ध संगीती का आयोजन हुआ था । इसकी अध्‍यक्षता सबाकामी ने किया था ।


31. शिशुनाग वंश का अंतिम शासक कौन था :
उत्‍तर- नंदिबर्धन


32. नंदवंश की संस्‍थापक कौन था :
उत्‍तर- 
महापद्मनंद
• नंदिबर्धन के उत्‍तराधिकारी महानंदिन को हत्‍या कर महापद्मनंद ने नंद वंश की स्‍थापना की थी ।


33. सिंकदर के समय मगध का समकालीन शासक कौन था :
उत्‍तर- धनानंद
• महापद्मनंद के आठ पुत्रों में अंतिम पुत्र धनानंद सिकंदर का समकालीन था ।इसके शासनकाल में ही सिंकदर ने करीब 325 ई.पू. में पश्चिमी तट पर आक्रमण किया था ।


34. चंद्रगुप्‍त मौर्य द्वारा नंद वंश को उखाड़ फेकने का उल्‍लेख किस ग्रंथ में है :
उत्‍तर- मुद्राराक्षस
विशाखादत्‍त द्वारा रचित मुद्राराक्षस में चंद्रगुप्‍त मौर्य के मगध सिंहासन पर बैठने की कथा का वर्णन है ।
Click here for play All GK Quiz in hindi



35. नंदवंश का अंतिम शासक कौन था :
उत्‍तर-धनानंद
चंद्रगुप्‍त मौर्य ने धनानंद का विनाश कर मगध पर नए वंश मौर्य वंश की स्‍थापना की थी ।

Click here for read all important gk questions and answer

अपडेट व Website से जुड़े रहने के लिए हमारे सोशल मीडिया को Follow कर सकते हैं । 
Facebook Page:  Please Click here
Facebook GroupClick here
You tubeClick here

0 टिप्पणियाँ: