Delhi Sultanate Kal Gulamvansh Part-1

History of India in Hindi के सीरीज में आज gkforyou.com अपने पाठकों के लिए delhi sultanate part-1, delhi sultanate history, delhi sultanate rulers, delhi sultanate in hindi, delhi sultanate in hindi pdf, delhi sultanate kings, delhi sultanate language गुलाम वंश से संबंधित 35  Most Important General Knowledge Questions and answer को संकलित कर आपके समक्ष प्रस्‍तुत कर रहा है । मुझे पूरा विश्‍वास है कि दिल्‍ली सल्‍तनत भाग-1, गुलाम वंश से संबंधित GK Questions and answer आपको पसंद आएगा एवं आगामी परीक्षाओं में सहायक सिद्ध होगा:
delhi-sultanate

दिल्‍ली सल्‍तनत काल भाग -1 


1. भारत में गुलाम वंश की स्थापना किसने किया था :
उत्‍तर –गुलाम वंश की स्‍थापना कुतुबुद्दीन ऐबक ने1206 ई. में किया था । इस वंश ने दिल्ली की सिहांसन पर 1206-1290 ई. तक राज किया ।
• गुलामों को फारसी में बंदगॉ कहा जाता है तथा इन्‍हें सैनिक सेवा के लिए खरीदा जाता है।


2. कुतुबुद्दीन ऐबक की राजधानी कहां थी :

उत्‍तर-लाहौर
• कुतुबुद्दीन ऐबक ने अपनी राजधानी लाहौर बनायी थी ।


3. दिल्‍ली सल्‍तनत के किस शासक को लाख बख्‍श के नाम से भी जाना जाता है :
उत्‍तर- कुतुबुद्दीन ऐबक
• कुतुबुद्दीन ऐबक को उसकी उदारता एवं दान प्रवृत्ति के कारण लाखबख्‍श (लाखों का दानी) कहा गया है ।


4. कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद का निर्माण गुलाम वंश के किस शासक ने करवाया था :


उत्‍तर – कुतुबुद्दीन ऐबक


5. ‘कुतुबमीनार’ कहाँ स्थित है :
उत्‍तर –दिल्ली


6. ‘कुतुबमीनार’ का निर्माण किसने करवाया था :
उत्‍तर –कुतुबुद्दीन ऐबक
• कुतुबुद्दीन ऐबक ने कुतुबमीनार का शुभारंभ करवाया था ।
• जबकि इल्‍तुतमिश ने कुतुबमीनार’ के निर्माण को पूरा करवाया था ।


7. ‘अढ़ाई दिन का झोपड़ा’ कहां स्थित है :
उत्‍तर –अजमेर
• अढ़ाई दिन का झोपड़ा’ कुतुबुदीन ऐबक ने बनबाया था ।
• अढ़ाई दिन का झोपड़ा’ नामक मस्जिद में हरिकेलि नाटक का कुछ अंश लिखा हुआ है ।
• हरिकेलि नामक संस्‍कृत नाटक की रचना चौहान बंश के सबसे शक्तिशाली शासक अर्णोराज के पुत्र विग्रहराज चतुर्थ वीसलदेव ने की थी ।
• अढ़ाई दिन का झोपड़ा’ नामक मस्जिद शुरू में विग्रहराज-4 द्वारा निर्मित एक विद्यालय था ।


8. अलाई दरवाजा निम्‍न में से किसका मुख्य द्वार है :
उत्‍तर –कुतुबमीनार का


9. दिल्‍ली सल्‍तनत के किस शासक की मृत्‍यु चौगान खेलते समय घोड़े से गिरकर हो गयी थी :
•उत्‍तर- कुतुबुद्दीन ऐबक
• कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्‍यु 1210 ई. में चौगान खेलते समय घोड़े से गिरकर हो गयी थी । इसे लाहौर में दफनाया गया था ।


10. कुतुबुद्दीन ऐबक के बाद दिल्‍ली के सिहांसन पर कौन बैठा था :
उत्‍तर- आरामशाह
• कुतुबुद्दीन ऐबक का उत्‍तराधिकारी आरामशाह हुआ, जिसने मात्र आठ महीनों तक शासक किया था ।


11. इल्‍तुतमिश किसकी हत्‍या करके दिल्‍ली के सिहांसन पर बैठा था :
उत्‍तर- आरामशाह
• इल्‍तुतमिश आरामशाह की हत्‍या करके 1211 ई. में दिल्‍ली की गद्दी पर बैठा था ।


12. दिल्‍ली सल्‍तनत की राजधानी लाहौर से दिल्‍ली किसने लाया था :

उत्‍तर- इल्‍तुतमिश


13. बगदाद के खलीफा से सुल्‍तान पद की वैधानिक स्‍वीकृति प्राप्‍त करने वाला पहला शासक कौन था :
उत्‍तर- इल्‍तुतमिश
• इल्‍तुतमिश पहला शासक था, जिसे बगदाद के खलीफा से सुल्‍तान पद की वैधानिक स्‍वीकृति प्राप्‍त की थी ।


14. इल्‍तुतमिश की मृत्‍यु कब हुई थी :
उत्‍तर- 1236 ई.
मौर्य वंश से संबंधित 51 अति महत्‍वपूर्ण प्रश्‍नोत्‍तरी भाग-1

15. शासन व्‍यवस्‍था में सुधार करने का प्रयास करने वाला प्रथम मुस्लिम शासक कौन था  :
उत्‍तर- इल्‍तुतमिश


16. शुद्ध अरबी सिक्‍के चलाने वाला पहला तुर्क शासक कौन था :
उत्‍तर- इल्‍तुतमिश
• इल्‍तुतमिश पहला तुर्क शासक था जिसने शुद्ध अरबी सिक्‍के चलवाये । उसने दो महत्‍वपूर्ण सिक्‍के चांदी का टंका तथा तांबे का जीतल चलवाया ।


17. इक्‍ता व्‍यवस्था का प्रचलन किस सल्‍तनतकालीन शासक ने किया था :
उत्‍तर- इल्‍तुतमिश


18. तुर्कान-ए-चिहलगानी की स्‍थापना किसने किया था :
उत्‍तर- इल्‍तुतमिश
• इल्‍तुतमिश ने चालीस गुलाम सरदारों का संगठन बनाया, जिसे तुर्कान-ए-चिहलगानी के नाम से जाना जाता है ।

19. इल्‍तुतमिश के बाद दिल्‍ली के राजसिंहासन पर किसने बैठा था :
उत्‍तर- रूकनुद्दीन फिरोज
• रूकनुद्दीन फिरोज एक अयोग्‍य शासक था, जिसे तुर्की अमीरों ने उसे हटाकर रजिया को सिंहसन पर बैठाया ।


20. इल्‍तुतमिश ने अपना उत्‍तराधिकारी किसे घोषित किया था :
उत्‍तर- रजिया सुल्‍तान
• इल्‍तुतमिश ने अपने कार्यकाल में ही रजिया को अपना उत्‍तराधिकारी घोषित किया था तथा सिक्‍कों पर उसका नाम अंकित करवाया लेकिन उसकी मृत्‍यु के बाद उसके बड़े पुत्र रूकनुद्दीन फिरोज को गद्दी पर बैठाया गया ।


21. दिल्‍ली के सिंहासन पर बैठने वाली पहली महिला शासक कौन थी :
उत्‍तर- रजिया सुल्‍तान
• रजिया सुल्‍तान दिल्‍ली सल्‍तनत की प्रथम तुर्क महिला व प्रथम मुस्लिम महिला शासक थी ।

22. रजिया सुल्‍तान की शादी किससे हुई थी :
उत्‍तर- अल्‍तुनिया


23. दिल्ली सल्तनत की राजकीय भाषा क्या थी :
उत्‍तर –फारसी

24. रजिया सुल्तान किसकी पुत्री थी :
उत्‍तर –इल्तुतमिश

25. रजिया बेगम को किसने मारा था :
उत्‍तर–रजिया सुलतान की हत्‍या 13 अक्‍टुबर 1240 ई. को कैथल के पास डाकुओं द्वारा द्वारा कर दी गई ।
• रजिया सुल्‍तान के मारने में बहरामशाह का हाथ था ।


26. टोपी सीकर अपना जीवन निर्वाह करने वाला दिल्‍ली के शासक कौन था :
उत्‍तर- नासिरूद्दीन महमूद
• नासिरूद्दीन महमूद ऐसा सुल्‍तान था जिसने टोपी सीकर अपना जीवन निर्वाह करता था ।


27. बलबन का वास्‍तविक नाम क्‍या था :
उत्‍तर- बहाउद्दीन
• बलबन का वास्‍तविक नाम बहाउद्दीन था, वह इल्‍तुतमिश का गुलाम था ।

28. बलबन दिल्‍ली के सिंहासन पर किस नाम से बैठा था :
उत्‍तर- गियासुद्दीन बलबन
• 1266 ई. में बलबन ने गियासुद्दीन के नाम से दिल्‍ली की गद्दी पर बैठा था ।


29. सल्‍तनकालीन दरबार में सिजदा एवं पैबोस प्रथा की शुरूआत किस शासक ने किया था :
उत्‍तर- बलबन ने


30. नवरोज उत्‍सव को प्रारंभ करने वाला शासक कौन था :
उत्‍तर- बलबन
• बलबन ने फारसी रीति-रिवाज पर आधारित नवरोज उत्‍सव को प्रारंभ करवाया ।


31. अमीर खुसरो किसके राजदरबारी कवि थे :
उत्‍तर- बलबन के
• बलबन के दरबार में फारसी के प्रसिद्ध कवि अमीर खुसरो एवं अमीर हसन रहते थे ।

32. भारत का तोता किस कवि को कहा जाता है :
उत्‍तर- अमीर खुसरो
• अमीर खुसरो को तुतिए-हिंद (भारत का तोता) कहा जाता है ।


33. दिल्‍ली के किस शासक ने अपने सिक्‍को पर खलीफा के नाम को अंकित करवाया था :
उत्‍तर- बलबन ने
• बलबन ने खलीफा के महत्‍व को स्‍वीकार करते हुए अपने द्वारा जारी किए गए सिक्‍कों पर खलीफा के नाम को अंकित करवाया तथा उसके नाम से खुतबे भी पढ़े ।

34. इल्‍तुतमिश द्वारा स्‍थापित तुर्कान-ए-चिहलगानी को समाप्‍त किसने किया था :
उत्‍तर- बलबन ने
• बलबन ने इल्‍तुतमिश द्वारा स्‍थापित 40 तुर्की सरदारों के दल को समाप्‍त किया था ।


35. गुलाम वंश का अंतिम शासक कौन था :
उत्‍तर- शम्‍मुद्दीन कैमुर्स


Daily GK Quiz, Daily Current Affairs Quiz, Reasoning & Math test, Most Important GK Questions with answer इत्‍यादि के लिए अपडेट व Website से जुड़े रहने के लिए हमारे सोशल मीडियाको जरूर Follow कर सकते हैं । 
Facebook Page:  Please Click here
Facebook GroupClick here

1 comment: