नोबेल साहित्य पुरस्कार 2019 I Nobel Literature Prize 2019

नोबेल साहित्‍य पुरस्‍कार 2019 I Nobel Literature Prize 2019 : आज nobel literature prize, nobel prize for literature, nobel prize of literature, nobel literature prize winners, nobel literature prize 2019, nobel literature prize 2018 के इस भाग में gkforyou.com अपने पाठको के लिए नोबेल साहित्य पुरस्‍कार 2019 के विजेता व नोबले साहित्य  पुरस्‍कार से संबंधित अति महत्‍वपूर्ण तथ्‍यों का एकत्रित कर आपके समक्ष प्रकािशत कर रहा है जोकि आगामी परीक्षाओं के लिए काफी सहायक होगा:


1. वर्ष 2019 का नोबेल साहित्य पुरस्कार से किसे सम्‍मानित किया गया है:
a. ओल्गा तोकार्जुक
b.पीटर हैंडके
c. रुडयार्ड किपलिंग
d. डोरिस लेसिंग

उत्तर- b.पीटर हैंडके

वर्ष 2019 का नोबेल साहित्य पुरस्कार से सम्बंधित मुख्य तथ्य: 


· वर्ष 2019 का नोबेल साहित्‍य पुरस्‍कार जो आस्ट्रियाई मूल के लेखक लेखक पीटर हैंडके को दिया गया है । हैंडके को यह पुरस्‍कार ‘मानवीय अनुभव की परिधि और विशिष्टता को भाषाई सरलता के जरिए खोजने के महत्वपूर्ण कार्य के लिए पुरस्कार दिया गया है।

·पीटर हैंडके एक ऑस्ट्रियाई उपन्यासकार, नाटककार, अनुवादक, कवि, फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। इनका का जन्म दक्षिण आस्ट्रिया के कार्नटन में 6 दिसंबर 1942 ई. में हुआ था। उन्होंने 1966 में उपन्यास ‘डाई हॉर्निसन’ से लेखकीय जीवन की शुरुआत की थी। इसके बाद उन्होंने ‘ऑफेंडिंग द ऑडिएं नामक उपन्यास लिखा तथा 1971 में अपनी मां की आत्महत्या से प्रेरित होकर, उन्होंने उपन्यास वुनस्क्लोसेस अनगलॉक (ए सोर्रो बियॉन्ड ड्रीम्स) में अपने जीवन को प्रतिबिंबित किया है

·आस्ट्रिया की राजधानी: वियना

·आस्ट्रिया की मुद्रा: यूरो

नोबेल साहित्य पुरस्कार से सम्बंधित मुख्य तथ्य:



·वर्ष 1901-2019 तक साहित्य में 116 व्यक्तियों को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। जिसमें 15 महिलाओं को सम्‍मानित किया गया है । सबसे ज्यादा अंग्रेजी भाषा के (23 बार) साहित्य को यह पुरस्कार दिया गया। 

·1914, 1918, 1935, 1940,1941, 1942 और 1943 में इसकी घोषणा नहीं की गई। 

·साहित्य के नोबेल पुरस्कार पाने वाले सबसे युवा ब्रिटिश पत्रकार रुडयार्ड किपलिंग (41) थे, जिन्हें जंगल बुक के लिए वर्ष 1907 में दिया गया। इनका जन्म मुम्बई में हुआ था। 

·साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सबसे उम्रदराज साहित्यकार ब्रिटेन की डोरिस लेसिंग (88) थीं, जिन्हें 2007 में यह पुरस्कार दिया गया। 

· साहित्य के नोबेल पुरस्कार से 15 महिलाओं को सम्मानित किया जा चुका है। स्वीडिश लेखिका सेलमा लेगरलोफ पहली महिला थीं, जिन्हें 1909 में यह पुरस्कार प्रदान किया गया। 

·भारतीय बंगाली साहित्यकार रविंद्रनाथ टैगोर को 1913 में कविता संग्रह ‘गीतांजलि’ के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया। वे भारत ही नहीं एशिया के पहले व्येक्ति थे, जिन्हेंन नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। 

· चार नोबेल पुरस्कार विजेताओं को उनके सरकारों द्वारा पुरस्कार स्वीकार करने की अनुमति नहीं मिली। अडोल्फ हिटलर ने तीन जर्मनों, रिचर्ड कुहन (रसायन शास्त्र, 1938), अडोल्फ बुटेनंट (रसायन शास्त्र, 1939), एवं गरहार्ड डोमाग्क (औषधी, 1939), और सोवियत यूनियन की सरकार ने बोरिस पास्टरनाक (साहित्य, 1958) को पुरस्कार नहीं लेने के लिए दबाव डाला । 

·दो नोबेल पुरस्कार विजेताओं जीन-पॉल सारत्रे (साहित्य, 1964) और ली डक थो (शांति, 1973) ने पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया । सारत्रे ने किसी भी आधिकारिक सम्मान को लेने से इनकार किया तो ली डक थो ने वियतनाम में खराब स्थिति के कारण पुरस्कार से इनकार कर दिया. 




·अब तक केवल दो व्‍यक्तियों को मरणोपरांत नोबेल पुरसकार से सम्‍मानित किया गया है । वर्ष 1931 में, साहित्य का नोबेल पुरस्कार मरणोपरांत एरिक एक्सल करफेल्ड्ट को तथा दूसरा वर्ष1961 में मरणोपरांत डाग हम्मार्क्ज़ोल्ड को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 

· 1974 में नोबेल फाउंडेशन के क़ानून यह बना दिया कि नोबेल पुरस्कार को मरणोपरांत नहीं दिया जा सकता है, जब तक कि नोबेल पुरस्कार की घोषणा के बाद मृत्यु नहीं हुई है। 

· कई लोग मानते हैं कि विंस्टन चर्चिल को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, लेकिन उन्हें वास्तव में साहित्य में 1953 का नोबेल पुरस्कार दिया गया था। वास्तव में, चर्चिल को साहित्य पुरस्कार और नोबेल शांति पुरस्कार दोनों के लिए नामित किया गया था। 

· साहित्य का नोबेल चार मौकों पर दो लोगों को संयुक्त रूप से दिया गया है । 


i. 1904 - फ्रैडरिक मिस्ट्रल, जोस एचेगाराय 

ii. 1917 - कार्ल गजलरुप, हेनरिक पोंटोपिडन 

iii. 1966 - शमूएल एगन, नेल्ली सैक्स 

iv. 1974 - आईविंड जॉनसन, हैरी मार्टिंसन
 Most Important GK Questions in hindi:



Most Important current Affairs:

अपडेट व Website से जुड़े रहने के लिए हमारे सोशल मीडिया को Follow कर सकते हैं । 
Youtube VideoClick here
Facebook GroupClick here
Facebook Page:  Please Click here

0 टिप्पणियाँ: