Ad code

राजा दशरथ की कौन सी रानी उनके साथ युद्ध में भाग लेती थी?

Dainik Bhaskar Ayodhya Darshan Quiz Answers for 17th January 2024 are given below :

राजा दशरथ की कौन सी रानी उनके साथ युद्ध में भाग लेती थी?

Please Support Me, आप से विनम्र निवेदन है  यदि Amazon से कुछ भी शॉपिंग करना हो तो Please नीचे दिए गए लिंक से Amazon app पर Visit करें, धन्‍यवाद ।

Top Brands Bags, Wallets and Luggage
Top Trolley bag, Suitcase,  Children Trolley Bag etc up to 80% off
Buy on Amazon Click here

Safari Trolley Bag, Bag up to 80%
Buy on Direct Amazon Click here

American Tourister Trolley Bag up to 50%
Buy on Direct Amazon Click here

Skybags : Trolley Bag up to 70%
Buy on Direct Amazon Click here


Clothing/Women Fashion/Kids Fashion
Man Clothing, Woman Clothing, kids Clothing etc up to 70% off
Buy on Amazon Click here

Woman Clothing up to 70%
Buy on Direct Amazon Click here

Man Clothing up to 70%
Buy on Direct Amazon Click here

Kids Clothing up to 80%
Buy on Direct Amazon Click here

Join WhatsApp Group for Amazon Deals & Quiz : Click here

राजा दशरथ की कौन सी रानी उनके साथ युद्ध में भाग लेती थी? Raja Dasharath ki kaun si rani unke sath yudh me bhag leti thi

प्रश्‍न 1 # राजा दशरथ की कौन सी रानी उनके साथ युद्ध में भाग लेती थी?
कौशल्या
सुमित्रा
कैकेयी


Smartphone Top Brands  

Smartphone  Accessories up to 70% off

राजा दशरथ की कौन सी रानी उनके साथ युद्ध में भाग लेती थी?

देवदावन युद्ध में जब राजा दशरथ देवताओं की सहायता के लिए गये तो कैकेयी भी उनके साथ गयीं। युद्ध के दौरान दशरथ के रथ का धुरा टूट गया, उस समय कैकेयी ने धुरे पर हाथ रखकर रथ को टूटने से बचाया और दशरथ युद्ध करते रहे। युद्ध समाप्त होने के बाद जब दशरथ को यह बात पता चली तो वे प्रसन्न हुए और कैकेयी से दो वरदान मांगने को कहा। कैकेयी ने इसे सही समय पर माँगने का दायित्व उन पर छोड़ दिया। जब राम को युवराज बनाने की बात उठी तो मंथरा नामक दासी के बहकावे में आकर कैकेयी ने दशरथ से अपने दो वर के रूप में राम के लिए 14 वर्ष का वनवास और भरत के लिए राज्य की मांग की। कैकेयी ने वरदान मांगकर श्री राम की मृत्यु को टाल दिया था, क्योंकि वह जानती थी कि राजा दशरथ अपने पुत्र के शोक में मर जायेंगे और इसके दो ही रास्ते थे, या तो राम की मृत्यु या उनका वनवास। तदनुसार, राम वन चले गए लेकिन भरत ने राज्य लेना स्वीकार नहीं किया, अपनी मां की आलोचना की और राम को वापस लाने के लिए वन में चले गए। उस समय कैकेयी भी उनके साथ गयीं।/p>

Post a Comment

0 Comments